बुढ़िया का शहर

एक बूढ़े शहर में एक बुढ़िया रहती थी ।
बच्चे मानने को तैयार न थे कि बुढ़िया भी कभी सुंदर बच्ची थी। बुढ़िया को नाराजगी थी हर एक से । बुढ़िया का शहर भी बुढ़िया जैसा। कोई मानने को तैयार नहीं कि शहर भी कभी सुंदर था।

बुढ़िया का शहर पुराना हो गया है, लेकिन बासी नहीं । उसे याद है जब हर रोज़ उसे सजाया जाता था। उसे याद है अपना बचपन । उसे याद है वो सुंदर बच्ची, जो उसकी गोद में पली बढ़ी थी।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: